पीरियड में चोदा बरखा को ऑफिस के अंदर

हेल्लो दोस्तों antarvasna मेरा नाम अमन हे और मैं मुंबई से हूँ. ये बात तब की हैं जब मैं अपने पहले जॉब के इंटरव्यू के लिए गया था. मैंने वहां पर बरखा को देखा. उसने टाईट जींस और टी शर्ट पहनी हुई थी. मेरा उसको देख के खड़ा हो गया. मैं इंटरव्यू के लिए केबिन में बैठा था. वो बार बार आती रिसेप्शन पे चली जाती. उसका फिगर ऐसा हे की किसी का भी उसे देख के खड़ा हो ही जाए. उसका फिगर 36 28 32 हे जो उसने मुझे खुद बताया हैं.

मेरा इंटरव्यू हो गया. मैंने क्लियर कर लिया था. सर ने मुझे कहा की आज आप सिस्टम सिखने के लिए बरखा के साथ लग जाओ. बरखा मुझे समझाने लगी. मैं उसे ही देखे जा रहा था. हम दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई थी.

हम डेली साथ में लंच करते थे. वो डेली टाईट ड्रेस पहन के आती थी. मैं उसके बगल में बैठता था. और उसे टच करने का एक भी मौका मैं अपने हाथ से देने नहीं जाता था. जब मौका मिलता था मैं उसे टच करता था. एक दिन स्टोर इंचार्ज ने जॉब छोड़ दी तो बॉस ने मुझे स्टोर में शिफ्ट कर दिया जो मुझे अच्छा नहीं लगा. पर बरखा स्टोर में आती थी मुझसे बात करने और मैं उसके केबिन में चला जाता था.

एक दिन मैं उसके केबिन में बैठा था और कुछ काम कर रहा था, मैंने उसे कुछ कहा पर उसने सुना नहीं. वो बीजी थी दुसरे काम में और उसका मुहं दूसरी तरफ था. मैं जैसे उठा वो भी इस तरफ पलटी और मेरा हाथ गलती से उसके 36 इंच के बूब्स के उपर टच हो गया. उसे अच्छा नहीं लगा. मैंने उसे सोरी कहा और स्टोर में आ गया. और मैं सोचने लगा की अब क्या होगा. वो मुझसे बात नहीं करेगी. पर ऐसा नहीं उया वो नार्मल बातें करने लगी जैसे ही कुछ हुआ ही ना हो. मैं समझ गया कुछ तो उसके दिल में भी हैं!

READ  रूबी की चूत का फालूदा

उसके बाद हम डेली बातें करते थे साथ घूमते भी थे. एक दिन मैंने उसे प्रोपोस किया. उसने शर्माते हुए मन कर दिया और बोली मैं तो अच्छी फ्रेंड ही आप की. मैंने उसे समझाया की अपनी फिलिंग को दबाओ नहीं. वो बोली अभी नहीं कह सकती मैं कुछ भी.

फिर उसकी और मेरी रात में बातें होने लगी थी फोन पर. उसे मेकअप पसंद नहीं था. लेकिन मैंने उसको कहा की अपने होंठो के ऊपर लिपस्टिक लगाया कर तेरे ऊपर बहुत स्यूट करेगा. उसने अगले दिन लिपस्टिक लगा दी. मैंने नोट नहीं किया था उसके लिप्स को तो वो मेरे केबिन में आई. ऑफिस के सर नहीं थे और वो मेरे पास आ के खड़ी हो गई.

मैं तब भी नहीं नोट किया और उसने कहा की बीजी हैं? तो मैने कहा नहीं बोल काम हे कुछ? तो उसने कहा नहीं मैं वैसे ही आई थी. मैंने कहा रूक तो वो रुकी. मैंने कहा की आज तो तू बड़ी सेक्सी लग रही हैं तू. तेरे ऊपर लिपस्टिक मस्त लग रही हे. उसने हंस के कहा तूने देख लिया? तो मैने कहा की मैं देख रहा था की तेरे दिल में क्या हैं. वो शर्मा गई और फेस निचे कर लिया. मैंने उसके फेस को ऊपर किया और किस कर दी. उसे अच्छा लगा और मेरे किस का जवाब किस दे के देने लगी. और फिर वो अपने केबिन में चली गई. रात में हम डेली नोर्मल बातें करते थे पर इस बार मेरा मन नार्मल बातें करने का नहीं था.

बरखा: मेरे से पूछा नहीं की किस कैसी लगी?

READ  रंडी माँ का खेत में ग्रुप सेक्स

मैं: मुझे पता हे बिलकुल तेरी जैसी हॉट!

बरखा: क्या कर रहा हैं?

मैं: लेटा हुआ हूँ!

मैं: तू क्या कर रही हैं?

बरखा: मैं भी लेटी हूँ.

फिर सन्डे की छुट्टी आ गई. हम साथ में घुमने के लिए गए और मूवी भी देखी. मूवी देखते हुए मैंने उसे किस क्या और उसने मुझे मस्त किस का जवाब दिया. फिर मैंने उसके बूब्स को दबाये. फिर मूवी खत्म हुई तो मैंने उसे कहा की चलो घर पर चलते हैं.

अगले दिन ऑफिस मैं हम ऐसे मिले जैसे हम सन्डे को मिल रहे हो. करीब 2 महीने ऐसा ही चला हर सन्डे को हम ऐसे बहार घूमते थे और मजे करते थे. एक दिन ऑफिस में वो कुछ डाउन लग रही थी. मैंने पूछा क्या हुआ तो वो बोली कुछ नहीं. पर वो सिसकियाँ ले रही थी मुझे कुछ तो हुआ हे और उसने मुझे बताया की वो पीरियड की वजह से दथोड़ी डाउन थी.

उस दिन सर नहीं आये थे. वो ऑफिस के काम से मुंबई से बहार गए हुए थे. तो मैंने उसे अपनी गोदी में बिठा लिया. और उसे किस करना लगा. वो भी किस करने लगी मुझे और मैं उसे गरम करने लगा. मुझे पता था की पिरियड में औरत को चोदो तो उसे बहुत मजा आता हैं. मैं उसके बूब्स मसल रहा था. मैंने उसकी शर्ट को निकाल दिया और उसकी रेड ब्रा को देख के मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरा लंड उसकी गांड में लग रहा था. वो बोली कुछ लग रहा हैं निचे. तो मैंने कहा कीच नहीं हे वो तो मेरा लंड हैं. वो बोली इतना कडक. मैंने कहा हां तुझे देख के खड़ा हो गया हैं मेरी जान.

मैंने कहा आज मेरा मन तुझे जन्नत की सैर करवाने को हैं. वो बोली करवा दो ना. और ये सुनते ही मैं और भी होर्नी हो गया और मेरा लंड और कडक हो गया.

READ  दीदी और उसकी चुदक्कड़ सास

मैंने उसको किस की और हम एक दुसरे से चिपक के मजेदार चुम्मा चाटी करते रहे. फिर मैंने उसकी पेंट की ज़िप खोल दी और उसे नंगा कर दिया. उसकी चूत को देख के बड़ा होर्नी लग रहा था. बरखा के लिप्स को चूसते हुए ही मैंने उसकी टांग को पूरा खोल दिया. उसकी चूत के ऊपर खून के स्पॉट बने हुए थे. उसने व्हिस्पर पहना हुआ था. मैंने उसे कहा इसे निकाल दूँ तो वो बोली नहीं इसको और पेंटी को मत निकालो प्लीज़. मैंने कहा फिर अन्दर कैसे डालूँगा. वो बोली साइड से डाल देना.

मैंने कहा ठीक हे लेकिन पहले मेरे लंड को चुसो.

वो कुर्सी के निचे बैठ गई और मैंने अपनी टांगो को फैला दिया. बरखा ने मजे से लौड़े को चाटना चालू कर दिया. वो जोर जोर से लंड को सक कर रही थी. और मैं उसके बालों में प्यार से हाथ घुमा रहा था. अब मैंने बरखा को खड़ा कर के उसे टेबल के ऊपर लिटा दिया.

मैंने उसकी पेंटी को और व्हिस्पर के पेड़ को थोडा साइड में किया. उसकी चूत एकदम लाल बनी हुई थी पीरियड के खून की वजह से. मैंने लंड को उसकी चूत के ऊपर घिसा और उसकी चूत चिपचिपी सी थी. मैंने उसके कंधे को पकड़ के एक धक्का दे दिया. बरखा की चूत में आराम से लंड घुस गया. वो सिहर उठी और उसने आह कर दिया.

मैंने ऑफिस के टेबल पर ही उसे पेलना चालू कर दिया. 10 मिनिट मस्त चोदने के बाद मैंने अपने वीर्य को उसकी खून से सनी हुई चूत में ही छोड़ दिया. सच में उसे पीरियड में चुदने का बहुत मज़ा आया.

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016