मौसी की चूत ने की मेरे लंड की खूब सेवा

हाय फ्रेंड्स, मेरा antarvasna नाम राकेश है और मैं दिल्ली से हूँ मेरी उम्र 26 साल है और आप सभी कामलीला डॉट कॉम पर सेक्स कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेने वालों का सच्चा पाठक हूँ और मैं भी आप सभी की तरह बहुत लम्बे समय से कामलीला डॉट कॉम की कहानियों को पढ़कर इनके खूब मजे और चूत मारता आ रहा हूँ। दोस्तों मैं दिखने में एक जवान और एकदम सेक्सी लड़का हूँ और मेरा लंड किसी भी फड़फड़ाती, प्यासी तरसती हुई चूत को तबियत से चोदने के लिये काफ़ी है। दोस्तों यह कहानी मेरी मौसी और मेरे बीच हुई घमासान चुदाई की है जिसमें मैंने अपनी मौसी की चूत को पूरी तरह से चोदकर उनकी चूत को फाड़ दिया था तो दोस्तों अब ज्यादा समय खराब ना करते हुए सीधा चूत लंड की लड़ाई पर आते है।

दोस्तों पता नहीं क्यों मुझसे सेक्सी औरत को देखकर कंट्रोल नहीं होता था वैसे यह सब नॉर्मल बात है मेरी उम्र के लड़को के लिए, खैर मेरी सेक्स की चाहत पूरी हो गयी जल्दी ही। मैं उन दिनों अकेला था तो अपनी मम्मी की एक बहन यानि मेरी मौसी के वहां गया था मम्मी के कहने पर, दोपहर का समय था और वो घर पर अपनी दो बेटियों के साथ थी मौसी का नाम मधु था और उम्र 40 साल, फिगर 36-34-38 बहुत ही सेक्सी औरत थी गोरी और एकदम साफ कलर की, जिसे देखते ही लंड खड़ा हो जाये। उनके पति 45 के आस पास होंगे और मौसी ने मुझे बाद में बताया था की वो उसे चोदते भी नहीं थे ज़्यादा, खैर मेरे लक के लिए शायद यही चीज़ काम कर गयी। उन दिनों मेरी सेक्स की भूख इतनी ज़्यादा हो गयी थी की मुझे मूठ मारने से भी संतुष्टी नहीं मिलती थी मैं मौसी के यहाँ गया और उनको मिलकर मेरे मन में अचानक उन्हें चोदने के ख्याल आने लगे, मैंने खाना खाया उनके घर और हम सबने थोड़ी देर बातें करी बातों ही बातों में मैं मौसी के बूब्स की तरफ देखे ही जा रहा था और यह बात उन्होंने काफ़ी बार नोटीस भी की थी, उन्होंने सलवार कमीज़ पहनी थी और गर्मियो के कारण घर में चुन्नी नहीं डाली थी, वैसे भी वो मुझे बच्चे की तरह ही देख रही थी और मेरे दिमाग़ में सेक्स का भूत सवार था। कुछ देर बातें करने के बाद उनकी दोनों बेटियाँ कोचिंग के लिए चली गयी मैंने पूछा तो बोली दो घंटे की क्लास है कोचिंग में, मैं प्लान बनाने लगा उनके जाते ही मौसी मुझे बोली थोड़ा आराम कर ले मैं उनके कमरे में ही लेट गया और वो अपने काम में लग गयी, थोड़ी देर बाद मुझे तेज़ पेशाब आया और मैं उठकर के चला गया बाथरूम की ओर मौसी के यहाँ वैसे तो दो टॉयलेट थे लेकिन एक में काम चल रहा था तो टाइल्स टूटी हुई थी तो उन्होंने वह टॉयलेट बंद कर रखा था मैं टॉयलेट गया और लंड निकालकर के पेशाब करने लगा टॉयलेट के शीशे में लंड को देख रहा था अचानक मैंने टब में गंदे कपड़े देखे, मेरी नज़र मौसी की पेंटी पर गयी मैं उसे निकालकर के सूंघने लगा जिससे मेरा लंड और टाइट हो गया और मैं मूठ मारने लगा मौसी के नाम की, मैंने टॉयलेट का दरवाज़ा बंद नहीं किया था और अचानक से दरवाज़ा खुला और मौसी अंदर आ गयी वो नहीं जानती थी की मैं अंदर हूँ मैं अपने लंड को हिला रहा था आखें बंद करके अचानक तेज आवाज़ से मैं घबरा गया और देखा तो मौसी एक मिनट तो मेरे लंड को देखती ही रह गयी लेकिन फिर सॉरी सॉरी कहते हुए बाहर चली गयी मैंने सोचा आज मूठ नहीं इनकी चूत ही मारूँगा मैं उनके पीछे भागा लंड बिना जीन्स में वापिस डाले ही मैंने अचानक से उनको पीछे से पकड़ लिया और वो बोली पागल हो गया क्या।

READ  अमेरिका में देसी लड़की की सील तोड़ी

मैं तेरी मौसी हूँ अंदर कर इसको और छोड़ मुझे मैं कहा मानने वाला था सेक्स का भूत था मुझपर। मैं उनको पीछे से ही टाइट तरीके से पकड़कर बोला मौसी आई.लव.यू. तुम बहुत सेक्सी हो, वो मुझसे छुटने की कोशिश करती रही और मैं उनको दोनों हाथों से टाइट करके पकड़ लेता था, शायद उन्हें भी मज़ा आ रहा होगा मेरे लंड के दबाव से लेकिन वो गुस्से में थी मैंने उन्हें बोला मौसी मैं एक जवान लड़का हूँ और आप एक सेक्सी औरत, क्या बुराई है अगर हम सेक्स कर ले तो, वो बोली नहीं यह पाप है मैं उन्हें मनाता रहा मैंने उनके बूब्स दबाने शुरू किए पीछे से ही। अब वो अपना ग़ुस्सा कुछ कम कर चुकी थी मैंने उनको बोला यह राज, राज ही रहेगा और कभी भी इसकी भनक किसी को भी नहीं लगेगी तब भी वो हाँ नहीं बोली लेकिन अचानक बाहर की तरफ चली गयी मैं उनके कमरे के बेड पर बैठकर मूठ मार रहा था अब 2 मिनट बाद वो आई दरवाज़ा बंद किया और अलमारी की तरफ कुछ निकालने लगी मैं पूरी जीन्स नीचे से उतारकर उनकी तरफ गया और उनका मुहँ पकड़कर सीधा किस करने लगा, वो अब मना ना करते हुए मेरे साथ देने लगी मैं उनको चूमने लगा और पागल हो रहा था उनके होंठ चूसता रहा 10 मिनट तक, वो अब गरम होने लगी मैंने उनकी कमीज़ निकाली और बूब्स दबाने लगा, बड़े बड़े बूब्स मस्त लग रहे थे मैं ब्रा का हुक खोलकर निप्पल पर टूट पड़ा उन्हें खींचकर बेड की और धकेल दिया और ऊपर बैठकर उनके बूब्स नोचता रहा वो आह… इउईइ… की आवाज़े कर रही थी कह रही थी धीरे राकेश, मैं 10-15 मिनट उनके बूब्स को चूसता रहा अब मैंने नीचे आते हुए उनकी टुंडी को चाटना शुरू किया वो बहुत गरम हो गयी थी मेरे लंड पर हाथ लगा रही थी बार बार, मैं उनकी सलवार का नाडा खोलने लगा तो वो मेरा साथ देते हुए खुद की ही खोलने लगी, मैंने पेंटी के ऊपर से ही चूत पर हाथ मारा वो अब बिल्कुल तैयार थी चुदाई के लिए, चूत पर गीलापन लगा मुझे। मैंने उनकी पेंटी भी उतार दी अब वो बिल्कुल नंगी मेरे सामने थी मैं तो पागल सा हो गया था मैं चूत को चाटने लग गया जैसा अक्सर पॉर्न फिल्मों में देखा था मैं कुत्ते की तरह चूत को चाट रहा था और वो सिसकियां भरती जा रही थी पूरे कमरे में अब उनकी आवाज़े भर गयी थी मैं तो चूत की खुश्बू से ही पागल हो गया क्यूंकी एक तो मेरा चूत चाटने का पहला समय था। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

READ  मेरी बहन के जवान लड़के ने चूत

वो अब रुक नहीं पा रही थी कह रही थी चोद दे इस चूत को, राकेश अब देर मत कर लेकिन मैं भी पूरे मज़े लेना चाहता था मैं उनकी चूत में लगा रहा अचानक उनका शरीर टाइट होने लगा और वो आवाज़े करती हुई झड़ गयी उनका पानी मेरे मुहँ पर आ गया वो हाफ्ती हुई बोली पी जा इसको मैं पी गया वो मुझे खींचकर मेरे होंठों पर किस करने लगी और बोली तू तो मस्त चाट रहा था मेरी चूत को, मैं तो सातवे आसमान पर पहुँच गया मैं बहुत खुश हुआ और उनके होंठ चूसने लगा फिर वो मेरा लंड पकड़कर बोली चल अब इसको भी मज़े देती हूँ कब तक बेचारा हाथों से ही सहलाता रहेगा मैं खुश हो गया वो बेड से नीचे उतरकर अपने घुटने के बल बैठ गयी और मेरा लंड मुहँ में लेकर चूसने लगी मैं जन्नत में था उनके मुहँ के स्पर्श से मैं पागल सा हो गया वो पूरा अंदर तक ले रही थी मुहँ में फिर वो मेरा लंड अपने मुहँ में से निकालकर बोली क्या स्वाद है तेरे लंड का इतना बड़ा कहाँ छुपाकर रखा था अब तक मैं बहुत खुश था उनके मुहँ में लंड दिये हुए 5 मिनट हो गये थे, मुझे लगा अब निकलने वाला है मेरा, मैं बोला मौसी मैं अब झड़ने वाला हूँ वो लगी रही चूसने में मैंने उनके मुहँ में ही 5-6 पिचकारियां मारी और उनका अपने वीर्य से पूरा मुहँ भर दिया। जिसे वो पूरा पी गयी और खुशी से बोली क्या स्वाद है राकेश बेटा तू तो मस्त मोटे लंड का मालिक निकला, अब गर्मी ही वजह से हम हाफ़ रहे थे मैं बहुत अपने आपको अच्छा महसूस कर रहा था लेकिन मुझे तो चूत भी मारनी थी अभी मैंने मौसी से कहा अभी कितना समय है हमारे पास वो बोली बहुत समय है अभी तो, खत्म ही नहीं होगा 1 घंटे से ज़्यादा का है और हम अकेले है मैं उनको चूमता रहा चाटता रहा उनकी टाँगे चूमता रहा वो तैयार थी अपनी चूत में लंड लेने के लिए फिर वो खड़ी हुई और मेरे लंड को पकड़कर चूसने लगी 2 मिनट में ही लंड फिर से तन गया अब मैंने भी देर ना करते हुए उन्हें सीधा लिटाकर उनकी चूत पर लंड रखकर रगड़ने लगा वो अपने हाथ से लंड अंदर डालने लगी लेकिन मैंने उनका हाथ हटाते हुए ज़ोर से धक्का लगाया वो चिल्ला पड़ी और लंड के ऊपर का टोपा चूत में घुस गया वो बोली बेटा बहुत दर्द हो रहा है तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा है फिर मैंने उन्हें किस करने के लिए उनके बिल्कुल ऊपर आकर उनके होंठ पर अपने होंठ रख दिए।

2 मिनट होंठ चूसने के बाद मैंने चूत में से लंड निकालकर दुबारा धक्का दिया वो फिर से चिल्लाई मैं झटके से लंड घुसाता रहा पूरा लंड घुस गया अंदर और मैंने चुदाई शुरू की, 5-7 मिनट धक्के मारने के बाद वो चिल्ला चिल्लाकर मज़े ले रही थी फिर उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया और थोड़ी शांत पड़ गई फिर मैंने चूत में से लंड निकाल लिया उनकी चूत के पानी को चाटने लगा फिर उन्हें बोला लंड पर बैठो, मैं लेट गया वो ऊपर से मेरे लंड पर बैठ गयी मैंने धक्के मारे वो भी गांड हिला हिलाकर चुदने लगी और फिर 5-7 मिनट तक मैं उनकी चूत में अपनी गांड को हिला हिलाकर धक्के मारता रहा और फिर मुझे लगा की मेरा निकलने वाला है तो मैंने उनकी चूत में निकाल दिया। फिर मैं उनकी गांड पर थपड़ मारने लगा जिससे उनकी मोटी गांड और लाल हो गयी, मैं उनको बोला उल्टी लेट जाओ वो बोली गांड मारने की सोच रहा है तो भूल जा मैंने आज तक गांड नहीं मरवाई है और ना कभी मरवाऊँगी, मैं बोला नहीं बस आपकी गांड चाटना चाहता हूँ तो वो बोली मैं तेरी हूँ राकेश जो चाहे कर बस गांड मत मारना मैं उनकी गांड फैलाकर के उनकी गांड के छेद को चाटने लगा वाह क्या स्मेल थी मैं तो उसका दीवाना हो गया मैं 10 मिनट तक उनकी गांड के छेद को ही चाटता रहा वो बोली पीछे से चूत में लंड डाल दे। मैंने उन्हें डॉगी स्टाइल में लेटने के लिए बोला फिर वो उस पोज़िशन में आ गयी मैंने देर ना करते हुए लंड डाल दिया और मस्त तरीके से चोदने लगा वो भी अपनी मस्ती में चुद रही थी फिर मैं ज़ोर जोर से धक्के मारने लगा वो ज़ोर जोर से चीखने लगी फिर 5-7 मिनट बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने बोला मौसी अब मेरा निकलने वाला है वो बोली चूत में ही निकाल दे फिर मैंने उनकी चूत में ही छोड़ दिया पानी।

READ  गाँव का हरामी साहूकार - लालाजी 3

फिर हम दोनों सीधे हुए बेड पर, फिर मैंने उनकी चूत का हाल देखा तो बहुत बुरा हाल था उनकी चूत मेरे लंड से फट चुकी थी और उनकी चूत से मेरा पानी टपक रहा था हम दोनों पसीने में नहा चुके थे वो बोली नहा ले नहीं तो तेरी बहनो को शक हो जाएगा हमारी चुदाई का, फिर उन्होंने बेड शीट बदल दी और मैं उन्हें किस करके बाथरूम में जाकर नहाने लगा मैं 10 मिनट बाद आया नंगा ही उन्होंने मुझे किस किया कपड़े पहनाए और बोली राकेश देख जो हुआ वो अपने तक ही रखना और प्लीज़ मुझे दुबारा चुदने के लिए मत बोलना, जब मेरा मन होगा तो मैं तुझे बता दूँगी मैं बोला ठीक है, फिर मैं टीवी देखने लगा वो नहाकर वापस आई जब तक सब कुछ नॉर्मल हो गया और उनकी बेटियाँ भी कोचिंग से आ गयी फिर हमने नास्ता किया और फिर मैं वहां से निकल लिया। लेकिन दोस्तों जब तक मैं वहां पर रहा मैंने मौसी की गांड और चूत को खूब बजाया, अब तो मैं जब भी मौसी के यहाँ जाता हूँ तो वो मेरे लंड की खूब सेवा करती है।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के पाठकों !!

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016