दोस्त ने चूत फाड़कर मजा दिया

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम उदिता है और में कामुकता डॉट कॉम की एक लगातार सेक्सी कहानियाँ पढ़ने वाली हूँ। में ऐसा पिछले कुछ सालो से लगातार करती आ रही हूँ और में सभी लिखी हुई कहानियों को पढ़कर बहुत मज़े करती हूँ। ऐसा करना मुझे बहुत अच्छा लगता है। दोस्तों आज में जो अपनी सच्ची कहानी आप सभी को बताने जा रही हूँ वो एक सच्ची घटना है जो मेरे साथ घटित हुई। इस घटना ने मेरे जीवन के साथ साथ मेरी सोच को भी बदल दिया और अब में आप सभी का ज़्यादा वक़्त ना खराब करके पहले अपना परिचय करवाकर अपनी इस कहानी को सुनाना शुरू करती हूँ। दोस्तों में दिखने में एक बहुत ही सुंदर लड़की हूँ और मेरे बूब्स का आकार 36-24-36 है में एक कॉलेज से अपनी बीकॉम की पढ़ाई पूरी कर रही हूँ, वैसे तो दोस्तों मेरे बहुत सारे लड़को से चक्कर चल चुके है, लेकिन किसी भी लड़के ने जिसने मुझे पटाया और उसके बाद मेरे यौवन का असली मज़ा लिया, उनमे ज्यादा दम नहीं था। वो साले बहनचोद बड़ी जल्दी ही कुछ धक्के देकर अपना पानी छोड़ देते, जिसके बाद उनका जोश भी लंड के साथ साथ ठंडा होकर मुझे बीच में अधूरा तड़पता हुआ छोड़कर दूर हट जाते और में अपनी दमदार चुदाई का अधूरा सपना लिए उदास हो जाती। दोस्तों फिर जब मेरा कॉलेज की पढ़ाई का पहला साल ख़त्म हुआ तो एक लड़के ने जिसका नाम सन्नी था। उसने मेरे कॉलेज में दाखिला ले लिया और वो दिखने में बड़ा ही गोरा चिट्टा गठीले बदन का आकर्षक लौडा था, जिसको पहली बार देखते ही मेरी चूत मन खुशी से झूम उठे और वैसे तो वो कॉलेज की पढ़ाई में मुझसे एक साल पीछे था, लेकिन वो मेरे एक दोस्त जिसके साथ पहले में सेक्स का नंगा नाच कर चुकी थी। उसका बहुत अच्छा परिचित दोस्त निकला और इस वजह से हम दोनों की एक दूसरे से बातें होने लगी थी और हम साथ साथ घूमने भी लगे थे और हम बहुत बातें हंसी मजाक किया करते और हम सभी बहुत खुश थे। हमारे कुछ दिन ऐसे ही निकल गए।

फिर एक दिन मेरे दोस्त ने सन्नी को यह भी बता दिया कि मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है। में अपने दोस्त के साथ कई बार चुदाई के मज़े ले चुकी हूँ और अब में सन्नी के साथ भी एक रात सोकर वो सब करना चाहती थी और उसके बारे में सोचकर कई बार मैंने अपनी चूत में उंगली करके अपनी चूत का पानी निकाला है, लेकिन में अब सन्नी का लंड भी चखने के लिए मरी जा रही हूँ और एक अच्छे अवसर की तलाश में हूँ। जब में उसके लंड से अपनी चूत की प्यास को बुझाकर अपने मन को शांत करूंगी तो यह सभी बातें सुनकर सन्नी ने मुझसे बिना कुछ कहे मेरे साथ अपनी दूरियों को धीरे धीरे खत्म कर दिया और एक बार हम दोनों को वो मौका मिल ही गया, जिसका हम पूरा पूरा फायदा उठाकर चुदाई के मज़े लेते। दोस्तों हम सभी कॉलेज के दोस्तों ने एक रात को पार्टी में डिस्को जाने का विचार बनाया इसके बारे में मैंने सन्नी से भी कहा तो वो तुरंत मेरी इस बात को मान गया और वहाँ पर हम सभी ने आधी रात तक पार्टी के बड़े मज़े लिए। चाहे लड़का हो या लड़की, सभी ने बहुत शराब पीकर मस्ती में नाचे झूमे और उस रात को मुझे भी थोड़ी सी शराब चड़ गयी थी और सन्नी तो साला मादारचोद पक्के शराबियों की तरह पीता ही जा रहा था।

फिर ज्यादा रात हो जाने के बाद मैंने मन ही मन में सोचा कि सन्नी को अब बातों में बहलाकर इससे अपनी चूत मरवाई जाए और नशे की हालत में इस काम को करने में कुछ ज्यादा ही मज़ा और इसको जोश भी बड़ा आएगा और यह मेरी आज जमकर चुदाई करके चूत की आग को ठंडा कर देगा। फिर यह बात मन ही मन सोचकर मैंने विचार बनाकर उससे मुझे मेरे घर छोड़ने के लिए कहा और उस पार्टी में वो अपनी कार से आया था और मेरे कहते ही वो तुरंत तैयार हो गया और में मन ही मन में उसको गाली देने लगी कि साला चूतिया इतने नशे में भी एक लड़की को घर छोड़ेगा, साला चूत का भूत। अपने मन में मेरी चुदाई के सपने तो यह भी देखकर खुश है इसलिए मेरी हर बात को झट से मान जाता है। फिर हम दोनों पार्किंग में पहुंच गये, जहाँ पर उसकी गाड़ी खड़ी हुई थी वहां पर अँधेरा भी बहुत था, इसलिए बहुत सारी गाड़ियों के पीछे एक कोने में उसकी गाड़ी को देखकर में बड़ी खुश थी, क्योंकि उस जगह पर किसी की निगाह इतनी आसानी से नहीं जा सकती थी और उसी समय मैंने चोरी से वहां के चौकीदार को 100 का एक नोट पकड़ा दिया। यह उसकी जुबान बंद रखने के लिए था और वैसे ऐसा में पहले भी कर चुकी हूँ, क्योंकि हम सभी दोस्त उस क्लब में हमेशा ही आते जाते रहते थे, इसलिए वो मुझे बहुत अच्छी तरह से जानता था, इसलिए उसने भी मेरी तरफ देखकर मुस्कुराते हुए झट से वो पैसे अपनी जेब में रख लिए।

READ  खुशबू के जिस्म को गुलाम बनाया

अब मुझे कुछ भी चिंता नहीं थी और में अब अपने मन का काम कर सकती हूँ और फिर सन्नी की कार में जाकर मैंने सन्नी से कहा कि मुझे बहुत नींद आ रही है और अब मेरा तो मन कर रहा है कि में यहीं कार में ही सो जाऊँ, घर जाकर भी तो मुझे बस सोना ही है और में उससे यह बात कहकर उसके कंधे पर अपने सर को रखकर उससे चिपककर बैठ गयी, जिसकी वजह से मेरे बूब्स उसके गठीले बदन से टकरा रहे थे और वो मेरी बड़े गले की टी-शर्ट से दोनों उभरे हुए बूब्स के बीच की जगह को अपनी चकित नजरों से घूर घूरकर देख रहा था, वो बड़ा चकित था, क्योंकि मैंने पार्टी में आने से पहले ही जानबूझ कर बड़े गले की ढीली टी-शर्ट और उसके अंदर एकदम टाईट ब्रा पहनी थी, जिसकी वजह से उसको मेरे बूब्स कुछ ज्यादा ही बाहर निकलकर आकर्षित कर रहे थे और वो मेरी गोरी छाती को देखे ही जा रहा था और पार्टी में भी सभी लड़को की नजर हर बार मेरे उछलते हुए बूब्स पर जा रही थी। अब में तुरंत समझ गयी कि यहीं पर आज मेरा काम बन जाएगा और मैंने उससे कहा ऐसे क्या घूरकर देखते हो? क्या पहले कभी किसी के बूब्स नहीं देखे जो इतना चकित हो? उससे इतना कहकर में उसकी तरफ देखकर मुस्कुराने लगी, जिसकी वजह से उसकी हिम्मत पहले से ज्यादा बढ़ गई।

फिर उसने बिना देर किए झट से मुझे पकड़कर मेरे नरम होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मेरे होंठो का रस चूसने लगा। हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को करीब पांच मिनट तक वैसे ही किस करते रहे और उस समय मेरे दोनों हाथ उसकी पीठ को सहला रहे थे और उसका एक हाथ मेरी गर्दन पर तो दूसरा हाथ मेरी कमर से नीचे आकर अब कूल्हों को सहला रहा था, लेकिन फिर उसने कुछ देर के बाद अपने हाथ को गर्दन से नीचे करते हुए मेरे टॉप के अंदर डाल दिया। ढीला टॉप होने की वजह से उसका हाथ बड़ी आसानी से अंदर पहुंच गया, वो अब मेरे मुलायम बूब्स को दबाने लगा था, जिसकी वजह से जोश में आकर मेरे मुहं से अब अहह्ह्ह उफ्फ्फ सस्स्सईईईईइ की आवाज़ें आने लगी थी, जिसकी वजह से वो भी जोश में आकर बूब्स को पहले से ज्यादा ज़ोर से दबाने निप्पल को मसलने लगा था। अब मैंने सही मौका देखकर उसकी शर्ट को उतार दिया और फिर में उसकी छाती पर किस करने लगी।

उस समय वो मेरे बूब्स से खेलता रहा और फिर उसने अब मेरे टॉप को उतार दिया और उसी के साथ उसने मेरी ब्रा को भी बिना देर किए उतारकर मेरे गोरे कामुक बदन से अलग कर दिया, जिसकी वजह से मेरे पिंजरे में बंद वो दोनों कबूतर अब खुली हवा में आकर सांसे लेने लगे। दोस्तों अपनी आखों के सामने पहली बार बिना कपड़ो के मेरे गोरे गोरे बड़े आकार के मुलायम लटके हुए बूब्स को देखकर सन्नी बिल्कुल चकित होकर मुझसे कहने लगा, वाह उदिता तुम तो बहुत ही सेक्सी हो, मुझे क्या पता था कि इन कपड़ो के पीछे दुनियां की सबसे सुंदर अनमोल चीज छुपी हुई है, जिसको देखकर में क्या कोई भी अपने होश एक ही बार में खो बैठे। फिर मैंने उससे कहा कि अभी तुम्हे इतना खुश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसके आगे तो तुम्हे इससे भी सुंदर द्रश्य नजर आने वाले है। पहले तुम एक बार मेरा पूरा बदन तो देख लो और फिर उसके बाद तुम इसकी तारीफ में कुछ कहना। फिर हम एक बार फिर से किस करने लगे और इसके बाद उसका हाथ मेरी जींस की तरफ बढ़ गया और उसने मेरी जींस को खोल दिया, जींस के नीचे आते ही उसने तुरंत मेरी पेंट के अंदर अपना एक हाथ डाल दिया और उसके बाद वो मेरी चिकनी कामुक चूत से खेलने लगा, जिसकी वजह से में मस्ती में बिल्कुल पागल होने लगी और हम दोनों ही धीरे धीरे बहुत गरम होते जा रहे थे। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

READ  सेक्सी भाभी ने मजे लेकर चुदवाया

अब मेरे मुहं से ऑश आह्ह्ह्ह की आवाज़ें बड़ी तेज से निकलने लगी थी। अब तक हम दोनों ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए थे और वो मुझे अपने सामने पूरा नंगा देखकर मुझसे बोला कि तुम अभी एकदम सच कह रही थी तुम तो साली बिना कपड़ो के अंदर से देखने पर किसी बम की तरह हो इतना सुंदर कामुक बदन आज से पहले मैंने कभी नहीं देखा और तुम तो मेरी उम्मीद से भी ज्यादा सुंदर आकर्षक हो। दोस्तों मुझसे इतना कहकर उसने तुरंत ही नीचे आकर मेरी चूत को चाटना शुरू किया। वो अपनी जीभ से मेरी गीली रसभरी चूत के दाने को टटोलने लगा था। उसके यह सब करने की वजह से में तो जन्नत में पहुँच चुकी थी। फिर मैंने जोश में आकर सिसकियाँ लेते हुए उससे कहा ऊफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह आज तुम खा जाओ इसको देखो यह बस तुम्हारे लिए ही इतना तड़प रही थी, आज तुम इसको जमकर चोदना, मेरी प्यास को बुझा दो, यह तुम्हारे लंड को लेने के लिए देखो कितना तरस रही है, प्लीज अब थोड़ा जल्दी करो।

फिर उसने जोश में आकर कहा कि साली कुतिया रंडी साली मुझे तू नीचे मेरे लंड से चुदने के लिए ही बहाना बनाकर बुलाकर लाई है ना, अब में तेरी मन की बात को समझ चुका हूँ और अब तू देखना आज में तेरी वो जमकर चुदाई करूँगा कि तू अपनी इससे पहले की सारी चुदाईयाँ भूल जाएगी। तू बस अब देखती जा रांड, आज तेरे साथ क्या क्या होता है? दोस्तों उसके मुहं से ऐसी जोश भरी बातें सुनकर मुझे भी जोश आ गया और मैंने उससे कहा कि हाँ तू आज अपनी इस रांड को तेरी मर्जी पड़े वैसे चोद मादरचोद, लेकिन अगर में भूखी रह गई तो में तेरे लंड के टुकड़े करके तुझे खिला दूँगी। तू चोद मुझे भोसड़ी वाले दिखा मुझे अपने इस लंड का दम और इसकी ताकत से तू मेरी चूत को शांत कर दे। अब वो भी जोश में मेरी चूत को बहुत ज़ोर ज़ोर से भूखे कुत्ते की चूसने साथ साथ जीभ से चाट भी रहा था उस बीच में एक बार उसके मुहं में ही अपना पानी निकाल चुकी थी, जिसको वो पी भी चुका था। फिर उसने मेरी चूत को चाट चाटकर एकदम लाल बिल्कुल चिकनी कर दिया था।

अब उसने अपने लंड की तरफ इशारा करते हुए मुझसे कहा कि ले मादरचोद अब तू भी कुछ देर मेरे मेरा को लंड चूस ले, ऐसे देखती क्या है, ले ना कुतिया इसको तू अपने मुहं में और चूसना शुरू कर दे। हमारे पास अब ज्यादा समय नहीं है और हमें इसके आगे का काम भी पूरा करना है। दोस्तों मैंने उस दिन पहली बार उसका 7 इंच लंबा मोटा लंड देखा था, जिसको देखकर मुझे थोड़ी सी खुशी तो ज़रूर हुई, लेकिन थोड़ा सा डर भी लगा, क्योंकि मैंने आज तक ऐसा दमदार मोटा लंबा लंड अपनी ज़िंदगी में कभी नहीं देखा था। उसका लंड लंबा होने के साथ साथ तीन इंच मोटा भी था। फिर उसने मेरे सर को पकड़कर जबरदस्ती मेरे मुहं में अपना पूरा लंड डाल दिया और वो उस बहनचोद ने यह भी ध्यान नहीं दिया कि मेरे मुहं में उसका लंड पूरा समा नहीं रहा था, जिसकी वजह से मुझे दर्द हो रहा था और मेरे मुहं से आवाज़ें आ रही थी और आखों से आंसू भी बाहर आने लगे थे।

फिर थोड़ी देर बाद जब सब मेरे लिए ठीक हो गया तो में उसके लंड को बड़े मज़े से चूसने लगी और अब उसके मुहं से अहह्ह्ह उह्ह्ह्ह एसस्स की आवाज़ें आने लगी थी। फिर करीब दस मिनट तक लंड को चूसने के बाद भी वो नहीं झड़ा शायद शराब की वजह से उसकी रुके रहने की ताकत बढ़ गई थी, इसलिए वो अब तक टिका रहा। अब मैंने लंड को बाहर निकालकर उससे कहा मादरचोद तू मुझे चोदेगा कब, साले पूरी रात क्या में तेरा लंड को ही चूसती रहूंगी? इसके आगे भी तो कुछ करने की सोच और इसके आगे का काम क्या तेरा कोई रिश्तेदार आकर पूरा करेगा? अब उसने तुरंत अपने लंड को एक हाथ में लेकर मेरी चूत के मुहं पर रखकर उसको रगड़ना शुरू किया और वो लंड के टोपे से चूत के दाने को घिस रहा था। उसके ऐसा करने की वजह से में तो बिल्कुल पागल होने लगी थी और में बार बार उससे कह रही थी उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह अब चोदो मुझे प्लीज, अब मुझसे बिल्कुल भी सब्र नहीं हो रहा है। फिर उसने मेरी चूत के दरवाज़े पर अपना लंड रखकर एक ही ज़ोरदार धक्का दिया, जिसकी वजह से उसका आधा लंड मेरी चूत के अंदर चला गया और में दर्द और मस्ती में ज़ोर ज़ोर से चीखने लगी। पहली बार मुझे इतना तेज दर्द हुआ था, क्योंकि इतना मोटा लंड मैंने आज तक कभी नहीं लिया था और दर्द की वजह से मेरी आखों से आंसू भी आ गये। अब मैंने दर्द में चिल्लाते हुए उससे कहा कि अब तुम इसको बाहर निकाल लो, वरना मेरी चूत फट जाएगी और इसकी वजह से मेरा दर्द बढ़ता ही जा रहा है। यह मेरी उम्मीद से भी ज्यादा दमदार निकला और आज के लिए इतना ही बहुत है और इसके आगे का काम तुम दोबारा कभी कर लेना। अभी तुम मुझे बस मेरे घर छोड़ दो और तुम्हारा मेरे ऊपर बड़ा अहसान होगा।

READ  चाची ने मेरे टावल में हाथ डाला

फिर वो ज़ोर से हंसते हुए बोला कि हाँ मादरचोद कुतिया वही तो में चाहता हूँ कि आज में तेरी इस चूत को क्या तेरी गांड को भी फाड़ दूँगा, क्योंकि आज तूने एक शेर से चुदने की कोशिश की है और इसके आगे देख में तेरा क्या हाल करता हूँ? उसने अपनी बात को खत्म करके एक और तेज धक्का मार दिया जिसकी वजह से उसका पूरा लंड मेरे अंदर चला गया और में दर्द से चीख पड़ी और उस दर्द की वजह से मेरा हाल अब बहुत खराब हुआ जा रहा था। उस दर्द को ज्यादा देर सहना मेरे लिए बड़ा दुखदाई था और मैंने उससे कहा कि भोसड़ी वाले तूने मेरी चूत को फाड़ दिया है, मादरचोद साले तुझसे मैंने लंड को बाहर निकालने के लिए कहा था ना, क्या तेरी समझ में नहीं आता? अब उसने मेरी बातों की तरफ बिल्कुल भी ध्यान दिए बिना अपने लंड को अंदर बाहर करना चालू कर दिया, जिसकी वजह से में चिल्लाती रही, लेकिन थोड़ी ही देर के बाद मेरा दर्द अब मज़े में बदल गया था और अब में भी अपनी गांड को ऊपर उठा उठाकर उसका अपनी चुदाई में साथ देने लगी।

अब में मस्ती में आकर उससे चिल्लाकर कहने लगी उफ्फ्फ आह्ह्ह वाह मेरे राजा हाँ ऐसे ही धक्के दे, तू देख मेरी चूत में आग लगी है और आज तू बुझा दे इसको, में तुझसे चुदवाने के लिए कब से तड़प रही थी। आज मुझे यह मौका मिला है तू आज मुझे जमकर चोद मेरी चूत की आग को बुझा दे। फिर वो बोला हाँ रंडी छिनाल में भी तुझे बहुत दिन से चोदना चाहता था, इसलिए आज तो में तुझे फटी चूत की कुतिया बनाकर ही छोड़ना चाहता हूँ। अब तू बस देखती जा और थोड़ी देर बाद उसने मुझे वहीं गाड़ी की सीट पर कुतिया बनाकर पीछे से अपने लंड को दोबारा मेरी चूत में डालकर बड़े तेज धक्के देकर चोदना शुरू किया, जिसकी वजह से पूरी गाड़ी तेज धक्के की वजह से डांस करने लगी और उस चुदाई के बीच में करीब तीन बार अपनी चूत का पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन वो अभी तक भी वैसे ही डटा रहा और वो एक बार भी नहीं झड़ा।

फिर करीब बीस मिनट वैसे ही चुदाई करने के बाद वो मुझसे बोला कि में अब झड़ने वाला हूँ। जल्दी से बता तू मेरा रस चूत के अंदर लेना चाहती है या में मुहं में निकाल दूँ? तो मैंने उससे कहा कि मादरचोद मुझे अंदर लेकर गर्भवती नहीं होना है, इसलिए तू मेरे मुहं में ही निकाल दे। फिर उसने यह बात सुनकर तुरंत ही अपने लंड को मेरी चूत से बाहर निकालकर मेरे मुहं में डाल दिया और फिर हिलाते हुए अपना सारा गरम गाढ़ा वीर्य मेरे मुहं में ही निकाल दिया। में उसका वो सारा रस पी गयी और उसके बाद मैंने उसका लंड अपनी जीभ से चाट चाटकर साफ कर दिया। मैंने महसूस किया कि उसके लंड में भी थोड़ी जान थी और वो मेरे बॉयफ्रेंड के लंड की तरह तुरंत झड़कर मुरझाकर छोटा नहीं हुआ था, लेकिन वो कुछ भी हो मुझे उससे मतलब नहीं था और मुझे तो उसके साथ पहली चुदाई में ही पूरी तरह से संतुष्टि मिल चुकी थी।

दोस्तों उस रात को उसने मुझे वहीं अपनी गाड़ी में बहुत जमकर चोदा और दो बार उसने मेरी गांड भी मारी, जिसकी वजह से मुझे चूत में लंड लेने से भी ज्यादा दर्द और बड़ी अजीब सी जलन महसूस हुई और सुबह होने तक मेरी चूत और गांड दोनों ही सूजकर फूल चुकी थी, लेकिन मुझे उसके साथ चुदने में बड़ा मस्त मज़ा आया, इसलिए में उस रात की चुदाई को कभी भी नहीं भूल सकती हूँ। दोस्तों यह थी मेरी वो चुदाई की सच्ची घटना जिसको में इतने दिनों से लिखकर आप लोगो तक पहुँचाने के बारे में सोच रही थी ।।

धन्यवाद …धन्यवाद …

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016