ससुर जी ने मेरी चूत का किया काम तमाम

हैल्लो दोस्तों, मैं antarvasna नीलम आज अपनी जिंदगी की एक मस्त चुदाई की कहानी आप सबके लिए लेकर आई हूँ ये कहानी मेरे और मेरे ससुर जी के बीच हुई चुदाई की दास्तान है तो चलिए दोस्तों मैं अपनी कहानी को शुरू करती हूँ।

मैं नीलम जयपुर की रहने वाली हूँ मेरी शादी राहुल से 7 महीने पहले हुई थी हमारे साथ उनके पापा यानी मेरे ससुर जी रहते है मेरी सासू माँ की डेट मेरी शादी से पहले ही हो गई थी मैं अपने पति से बहुत प्यार करती हूँ और वो भी मुझे बहुत प्यार करते है वो मुझे खूब चोदते है और मुझे उनसे चुदाई करने में बड़ा मस्त मज़ा आता है वो मुझे सुबह शाम दिन रात जब मर्ज़ी चाहे चोद देते है मैं भी उनसे काफ़ी मज़े में चुदती हूँ। दोस्तों अब मैं आपको अपने बारे में बता देती हूँ मेरी उम्र 26 साल है और मेरा रंग गोरा है और मेरा फिगर 34-28-36 है। और मेरी चूचियाँ मस्त गोल, सुडौल और सख्त है, गोरे रंग की चूचियों पर गहरे भूरे रंग की डोडियाँ बहुत सुंदर लगती है। मेरा जिस्म बिल्कुल किसी कारीगर की तराशी हुई संगमरमर की मूर्ति की तरह है, लोग मुझे इस डर से नहीं छूते कि मेरे शरीर पर कोई दाग ना लग जाए। मेरे पड़ोसी मुझे देखकर अपने लंड को मसलने लग जाते है जब वो मेरे सामने ऐसा करते है तब मुझे बहुत मज़ा आता है। जबसे मेरी शादी हुई है तबसे मेरे पति मुझे रोज जमकर चोदते है मुझे अब बिना चुदाई के नींद नहीं आती है। तभी मेरे पति को पूरे एक महीने के लिए कही बाहर ऑफीस के काम से जाना पड़ गया मैं चुदाई के लिए पीछे से ना तड़पू इसलिए मेरे पति ने मुझे ब्लू मूवी पेन ड्राइव में डालकर दे दी। उसके बाद वो चले गये उनके जाते ही मेरी चूत में आग लगनी शुरू हो गई मैं रात को ब्लू मूवी टीवी पर लगाकर देखती और अपनी चूत में उंगलियाँ करके अपनी चूत का पानी निकालती अब मेरा ये रोज़ का काम हो गया था एक रात मैं बेड पर पूरी नंगी होकर कमरे में पूरा अंधेरा करके सामने टीवी पर ब्लू मूवी लगाकर अपनी चूत में उंगलियाँ कर रही थी। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था की तभी मुझे लगा की विंडो में से कोई मुझे देख रहा है मैं पूरी तरह से डर गई और मैंने अपना टीवी बंद किया और आराम से मैं बेड पर लेट गई मैं बहुत डर रही थी की मुझे आज मेरे ससुर जी ने ये सब करते हुए देख लिया है मैं पूरी रात डर के मारे सो नहीं पाई मैं बस ये ही सोच रही थी की ये मेरे साथ क्या हो गया है पापा जी मेरे बारे में क्या क्या सोचते होंगे। आख़िर सुबह हुई और मैं उठी और तभी पापा जी ने मुझे चाय के लिए कहा, मैं जल्दी से किचन में गई और चाय बनाने लग गई मुझे उनके सामने जाने में भी काफ़ी डर लग रहा था मैं बहुत हिम्मत करके उनके पास गई और जैसे ही मैं उन्हें चाय देने के लिए नीचे झुकी तो मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया और मेरे 34 के बूब्स पापा जी के सामने आ गये।

READ  दोस्त के बाप के साथ उसकी माँ को चोदा

पापा जी की नज़रें मेरे ब्लाउज पर थी और मेरी नज़र उनके लंड पर थी उनका लंड खड़ा हो चुका था और तभी वो बोले बहू ज़रा ध्यान से काम किया करो जब वो मुझे ये बात कह रहे थे तो उनके चेहरे पर मुस्कान थी मैं समझ गई की वो मुझे चोदना चाहते है मैं जल्दी से किचन में आ गई सच कहूँ तो पापा जी का खड़ा लंड देखकर अब मेरी चूत में कुछ कुछ होने लग गया मेरा मन अब चुदाई करवाने का हो रहा था। मेरी चूत में लंड लेने की आग सी लग रही थी तभी मैंने सोचा जो होगा देखा जाएगा आज तो मैं अपने ससुर जी से चुदकर ही मानूँगी फिर क्या था मेरा शेतानी दिमाग़ चलने लग गया, तभी मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया मैंने झट से एक स्टूल उठाया और उसके ऊपर चढ़कर पापा को स्टूल पकड़ने के लिए बुला लिया और मैं ऊपर से कुछ सामान उतारने लगी जैसे वो नीचे खड़े होकर स्टूल पकड़ रहे थे उस समय उनकी आँखो के सामने मेरी चिकनी 28 की कमर थी तभी मैं जानबुझकर उनके ऊपर गिर गई और पैर और कमर में चोट लगने का बहाना करने लग गई। पापा जी मुझे उठाकर बेड रूम में ले गये और फिर मेरे कहने पर वो मेरी कमर पर मूव लगाने लग गये। पापा जी भी कम नहीं थे वो मेरे जिस्म के पूरे मज़े ले रहे थे और फिर मुझे धीरे धीरे गरम भी कर रहे थे मेरे मुहँ से आहह… ओईई…. की गरम गरम सिसकारियाँ निकलने लग गई तभी पापा जी बोले बहुत मज़ा आ रहा है ना? मैं बोली पापा जी मज़ा तो आ रहा है पर यह सब ठीक नहीं है ये सुनते ही वो मेरे दोनों बूब्स को अपने हाथों से मसलने लग गये अब मैं और भी गरम हो रही थी। मैं अपने होंठो को अपने दांतों से चबा रही थी और अपनी दोनों आँखें बंद करके मज़े ले रही थी तभी पापा जी ने मेरे होंठो को बड़े प्यार से अपने होंठो में ले लिया और मेरे होंठो को अपने होंठो में लेकर धीरे धीरे चूसने लग गये मैं भी अब उनके होंठो को चूसने लग गई और उनके मुहँ में जीभ डालने लग गई करीब 10 मिनट तक हम दोनों ने जमकर किस किया फिर उन्होंने मेरे होंठो को छोड़ दिया और मेरा ब्लाउज और मेरी साड़ी को उतार दिया।

READ  प्यासी आंटी और उसकी बेटी की चुदाई

अब मैं उनके सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी मेरे बूब्स देखकर वो पागल हो गये और एक कुत्ते की तरह मेरे दोनों बूब्स को चूसने और काटने लग गये उन्होंने मेरी ब्रा फाड़ दी और मेरे निप्पल को ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गये। मैं बोली बस करो पापा जी कितना चूसोगे मेरे बूब्स को, तो पापा जी बोले बहन की लौड़ी साली जिस रात से तुझे नंगा देखा है उस रात से ही मैं तुझे सोचकर मूठ मार रहा हूँ। आज तो तुझे अपनी रंडी बनाकर ही दम लूँगा मैं, ये कहते ही पापा जी ने मेरी पेंटी में अपना हाथ डाल दिया और मेरी चूत को ज़ोर ज़ोर से मसलने लग गये मैं अब पूरी तरह से पागल हो रही थी। मेरी चूत पानी पानी हो रही थी फिर पापा जी ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और मेरे बूब्स के ऊपर बैठकर उन्होंने अपना लंड मेरे मुहँ में डाल दिया। मेरे पति का लंड पापा जी के लंड से तोड़ा छोटा था पर पापा जी का लंड मोटा था मैं बड़े मज़े से अपनी जीभ से पापा जी का लंड चाट रही थी फिर पापा जी ने मेरा सिर पकड़कर अपना लंड सीधा मेरे मुहँ में घुसा दिया और वो मेरे मुहँ को पकड़कर अपने लंड से चोदने लग गये मैं उनका लंड अपने गले के अंदर तक महसूस कर रही थी वो मेरा मुहँ चोदने में लगे हुए थे। कुछ देर बाद मुझे सांस लेना मुश्किल हो रहा था इसलिए उन्होंने मुझ पर दया दिखाई और मेरे मुहँ में से अपना लंड बाहर निकालकर मुझे सांस लेने का मौका दिया। मैंने आज पहली बार अपने गले की थूक देखी थी जो पापा जी के लंड पर लगी हुई थी पापा जी बोले वाह बहू मैं ये चाहता था की मेरा लंड पूरी तरह से तेरी थूक से भीगा हो आज तूने वो ही कर दिया है अब देख ये थूक से भीगा हुआ लंड कैसे एक ही झटके में तेरी चूत में जाता है। फिर पापा नीचे आए और मेरी चूत पर अपना लंड सेट करके एक ही धक्के में आधा डाल दिया मुझे दर्द हुआ जिस वजह से मैं ज़ोर से चिल्लाई और उसके बाद उन्होंने एक और धक्का दिया अब उनका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर था मैं दर्द से चिल्लाती हुई बोली बस करो पापा जी इतना दर्द तो मुझे आपका बेटा भी नहीं देता, प्लीज़ आराम से मारो मेरी चूत प्लीज़। दोस्तों यह सेक्स स्टोरी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

READ  साले की बीवी ने लंड खड़ा किया

पापा जी बोले तेरी माँ की चूत भी मैंने ऐसे ही फाड़ी थी आज तेरी भी फाड़ दी मैंने, अब देख मेरा लंड कैसे तुझे तेरी माँ क्या तेरी नानी भी तुझे याद दिलाता है। उसके बाद तो पापा जी एक ट्रेन की तरह तक धक्के मारने लग गये मेरी चूत बुरी तरह से दर्द हो रही थी मेरी चूत ने अपना सारा पानी निकाल दिया था करीब पापा जी ने मुझे 20 मिनट तक रंडी समझकर चोदा और उसके बाद पापा जी ने अपने लंड का सारा पानी मेरी चूत में ही निकाल दिया। और उनके निकले हुए गरम गरम पानी को मैं अपनी चूत के अंदर महसूस कर रही थी। उस दिन पापा जी ने मुझे 3 बार चोदा था और जब तक मेरे पति घर नहीं आये तब तक उन्होंने मुझे पूरा नंगा ही रखा और मेरी गांड और चूत चोद चोदकर उन्होंने पूरी सूजा दी। अब जब कभी भी मेरे पति कही बाहर चले जाते है मैं फिर से अपने पापा जी की नंगी रंडी बन जाती हूँ।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016