शादीशुदा चाची हुई मेरे लंड पर फिदा

हैल्लो दोस्तों, मैं antarvasna साहिल जम्मू से एक बार फिर से आप सभी का कामलीला डॉट कॉम पर स्वागत करता हूँ और सबसे पहले मैं उन चूत वाली रानियों को नमस्कार करता हूँ जो मेरे लिये अपनी चूत खोलकर बैठी हुई है और इस कहानी को पढ़ने के बाद अपनी चूत से सफ़ेद पानी जरुर छोड़ देंगी, और मैं हर एक औरत या जवान लड़की को अपनी मस्त चुदाई से पूरी संतुष्ट करने के लिये ही पैदा हुआ हूँ दोस्तों यह मेरी अपनी चाची की कहानी है जिसे चोदकर मैंने वो सुख दिया जो की उनका पति भी ना दे पाया उसको जिससे चाची मेरे लंड की महिमा को गाती है।

दोस्तों यह कहानी आज से 1 महीने पहले की है मैं एक कॉलेज में एड्मिशन लेने के लिए गया था वहां पर मुझे मेरा भाई मिल गया और बोला चल घर पर चलते तो मैं उसे साथ उसके घर आ गया वही पास में मेरी चाची का घर है मैंने सोचा चलो चाची से भी मिल लेते है और मैं अपने भाई के घर से चाची के घर पर चला गया दोस्तों मेरी चाची की उम्र 29 है और वो एक सेक्स बॉम्ब है जो भी उनको देख ले तो उन पर फिदा हो जाये और उनके बूब्स बहुत ही बड़े बड़े है और गांड तो पूछो ही मत, क्या कमाल का फिगर है चाची का, फिर मैंने घर की बेल बजाई लेकिन दरवाजा नहीं खुला बहुत देर बेल बजाने के बाद चाची ने दरवाज़ा खोला चाची उस समय नहाकर के आई थी और सिर्फ़ पेटीकोट और ब्लाउज में थी जिसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया और किसी तरह कंट्रोल करके मैं अंदर जाकर सोफे पर बैठ गया और चाची पानी लेकर आई और पूछने लगी आज कैसे आ गये साहब हमारे घर?

मैं :- आज चाची से मिलने और बातें करने का मन कर रहा था तो आ गया।

चाची :- अच्छा।

मैं :- आप इतनी लेट नहाती हो?

चाची :- आज घर पर बहुत सारा काम था लेकिन अभी तक पूरा काम नहीं हुआ।

मैं :- अभी, और क्या काम बाकी है?

चाची :- अभी मुझे टांड साफ करनी है और मैं वहां तक पहुँच नहीं पा रही रहूँ।

मैं :- अच्छा।

चाची :- चलो मैं तुम्हारी लिये चाय बनाकर लाती हूँ और फिर बाद में तू प्लीज़ मेरी मदद करना सफाई करने में।

मैं :- अच्छा ठीक है।

फिर चाची किचन में चली गयी अपनी गांड को मट मटकाकर चाय बनाने के लिए, मैं भी पानी का ग्लास रखने के बहाने उनकी गांड को देखते देखते पीछे पीछे चला गया और उनकी गांड पर हाथ लगा दिया लेकिन चाची कुछ नहीं बोली फिर हमने चाय पी, चाची अभी तक पेटीकोट और ब्लाउज में ही थी फिर मैंने पूछा की आप तो अभी नहाई हो फिर गंदी हो जाओगी तो चाची बोली फिर नहा लेंगे। फिर हमने कमरे में जाकर डिसाइड किया की कैसे साफ करें, तो चाची बोली कोई टेबल भी नहीं है वहां तक पहुँचने के लिए, तो मेरे हाथ में झाड़ू थी और मैंने मज़ाक में बोला आप मुझे उठाओ और मैं साफ करता हूँ चाची बोली ठीक है और फिर उन्होंने मेरे लंड की तरफ अपना सर किया और गांड की तरफ हाथ डालकर मुझे उठाने की कोशिश करी और जैसे ही उन्होंने मुझे उठाने के लिए ज़ोर लगाया तो आहह करी और मेरे लंड पर अपना मुहँ रख दिया लेकिन उठा नहीं पाई और फिर से वो ट्राइ करने लगी तब तक मेरा लंड खड़ा हो चुका था, तो कुछ सेकेंड तक मेरा लंड उनके मुहँ में चला गया और मैं शॉक हो गया और फिर चाची बोली काम के समय पर तो इसको संभाला कर रखा कर, मैं कुछ नहीं बोल पाया। फिर थोड़ी देर बाद मैंने कहा चलो मैं आपको उठाता हूँ वो बोली ठीक है मैं भी उन्हें उसी अवस्था में उठा रहा था और उठा भी लिया अब उनकी नाभि मेरी आँखों के सामने थी तो मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने ज़ोर से उनकी गांड को दबा दिया वो बोली क्या कर रहा है? मैंने कहा सॉरी, फिर मुझसे रहा नहीं गया तो मैं उनकी नाभि में जीभ डालकर चाटने लगा, फिर उन्होंने बोला शैतान बन गया है तू और फिर मैंने उन्हें नीचे उतार दिया 5 मिनट बाद पानी पीकर वापस उठाया इस बार उनकी चूत मेरी आखों के सामने थी फिर मैंने चूत पर अपनी जीभ रखी और जीभ से दबाने लगा 3 मिनट दबाने के बाद वो बोली, साफ हो गया अब मुझे नीचे उतार दे फिर मैंने उन्हें नीचे उतारा और हम बेड पर बैठ गये 2 मिनट के आराम करने के बाद चाची बोली उस वक़्त तो बहुत मस्ती कर रहा था अब चुप क्यूँ है?

READ  जयपुर में दोस्त की बहन गांड चोदी

मैं :- सॉरी चाची, आप इतनी सेक्सी हो तो मुझसे कंट्रोल ही नहीं हुआ।

चाची :- मैं सच में सेक्सी हूँ?

मैं :- हाँ चाची।

मेरी हाँ सुनते ही चाची मेरी पास आकर मेरे गाल पर किस देते हुए बोली तू भी तो बहुत अच्छे से चाटता है मैंने कंट्रोल छोड़ा और उन पर टूट पड़ा और उनको बेड पर लिटाकर के उनके होठों को चूमने लगा और बोला चाची आप सच में बहुत सेक्सी हो और फिर वो भी मेरा साथ देने लगी और 25 मिनट किस करने के बाद मैंने अपना हाथ उनके बूब्स पर लगाया और मसलने लगा वो आहह… आह… कर रही थी। थोड़ी देर बाद मैंने उनका ब्लाउज खोल दिया और उनके बूब्स सफ़ेद ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा फिर ब्रा भी खोल दी और उनके बड़े बड़े बूब्स को पिंजरे से आज़ाद कर दिया और उनको मुहँ में लेकर पागलों के तरह चूसने लगा फिर मैं अपना हाथ उनके पेटीकोट के अंदर ले गया और उनकी गीली चूत को पेंटी के ऊपर से ही मसलने लगा और वो आअहह… आआहह… कर रही थी फिर मैंने उनक पेटीकोट खोल दिया और वो मेरे सामने सिर्फ़ काले कलर की पेंटी में थी, मैं पेंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को चाटने लगा और वो सिसकारियाँ ले रही थी फिर उन्होंने मेरी शर्ट खोली और मेरे शरीर को चाटने लगी और फिर लंड पर हाथ रखकर के दबाने लगी और थोड़ी देर बाद मेरी पेंट उतार दी अब हम दोनों सिर्फ़ अंडरवियर में थे मेरी चड्डी में मेरा लंड टेंट बना हुआ था तो चाची ने चड्डी नीचे से खींच दी और बोली बाप रे यह इतना बड़ा कैसे किया तूने? मेरा लंड 8 इंच का है काफ़ी मोटा है, मैंने कहा चाची क्या आपने पहली बार देखा है इतना बड़ा, तो वो बोलने लगी की तेरे चाचा का तो सिर्फ 6 इंच का है। फिर वह मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर मेरे लंड के टोपे को आगे पीछे करने लगी, शायद चाची का दिल मेरे लंड पर आ चुका था फिर वह बड़े ही आराम से मेरे लंड को मुहँ में भरकर चूसने लगी फिर कुछ देर लंड चूसने के बाद हम दोनों 69 की पोज़िशन में थे, फिर हम किस करने लगे फिर वो बोली जान अब रहा नहीं जा रहा जल्दी से डाल दो, फिर मैंने उनके दोनों पैर मेरे कंधे पर रखकर मेरा लंड उनकी चूत पर रगड़ने लगा वो आआहह… उईइ… जो की सभी लड़कियां करती है करने लगी और बोली डालो ना जान जल्दी से, मैंने फिर लंड को सेट करके एक शॉट मारा तो मेरे लंड का सूपड़ा अंदर चला गया और वो चिल्लाने लगी आईई माँ… आराम से करो ना…. फिर मैं उनको किस करने लगा और फिर ज़ोर से एक और शॉट मारा वो चिल्लाई और उनकी आँखों से पानी आने लगा जबकि अभी तो मेरा आधा लंड अंदर गया था फिर ऐसे ही मैंने एक और शॉट मारा और पूरा लंड अंदर घुसा दिया जिससे उनका मुहँ लाल हो गया और मैं उनको किस करने लगा तो वो चिल्ला नहीं पाई फिर मैं धीरे धीरे उनकी चूत में अपना लंड हिलाने लगा, और लंड ने चूत के अंदर पूरी जगह बना ली तो वो भी मेरा साथ देने लगी और फिर 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों ही झड़ गये और हम दोनों एक दूसरे के ऊपर लेटे रहे और फिर नहाने गये तो बाथरूम में भी एक बार और सेक्स किया फिर थककर वापस कमरे में आ गये और फिर वो चाय बनाकर लाई और बोलने लगी आज से आप मेरे दुसरे पति हो जब चाहे मुझे चोद लेना फिर उन्होंने मुझे बाय कहा और मेरी पेंट के ऊपर से ही लंड पर एक किस दिया और में चला गया। फिर करीब शाम 7.00 चाचा घर पर आए और बोले की मैं बाहर जा रहा हूँ तू घर पर जाकर सो जाना।

READ  नौकरी के बहाने चाचा ने चोदा

मैं :- मैं अकेला नहीं सोऊंगा।

चाचा :- अकेला कहाँ है तेरी चाची भी है ना, कोई डर नहीं है।

फिर मैं खुश होकर उनके साथ चल दिया वहाँ रात को 9 बजे चाचा खाना खाने के बाद चले गये थे और उनके जाते ही मैंने दरवाजा बंद करके चाची के ऊपर टूट पड़ा और बोला जान आज तेरी चूत का ऐसा भोसड़ा बनाऊंगा की उसमें 4 लंड एक साथ जा सकेंगे, और इतनी चोदूंगा की आज तेरी गांड और चूत एक कर दूंगा। उसके बाद मैं उसको किस करने लगा दोस्तों एक समय तो ऐसा था की मैं भी छटपटाने लगा और वो इतनी गरम हो चुकी थी की वो एक भूखी शेरनी की तरह बन गई, दोस्तों मैंने भी आव देखा ना ताव मैं उसकी गर्दन और बूब्स पर किस करने लगा उनकी सासें तेज़ तेज़ चल रही थी फिर मैंने उनके और मेरे सारे कपड़े निकालकर उनकी चूत पर अपना लंड डालकर रगड़ने लगा जिससे उनके मुहँ से ईई… उईई.. की आवाजें आने लगी और एक ही झटके में मैंने पूरा लंड उनकी चूत के अंदर कर दिया और जोरदार चुदाई के मज़े देते हुए उनकी चूत को चोदने लगा उनकी चूत में लंड डालते ही वो इतनी उत्तेजित हो गई थी की मैं आपको बता नहीं सकता, और वो अपनी गांड को ऊपर की तरफ उठा उठाकर मेरा पूरा साथ दे रही थी और पता नहीं इस बीच वो झड़ भी चुकी थी फिर मुझसे बोलने लगी जल्दी से तुम अपना काम खत्म करो मुझसे अब और बर्दास्त नहीं हो रहा तुमने तो मुझे जीते जी जन्नत का अहसास करवा दिया, फिर मैंने भी जोर जोर से झटके देकर उसकी चूत में अपना सारा पानी गिरा दिया और फिर हम दोनों थककर नंगे ही एक दुसरे के बाँहों में सो गये उस रात मैंने चाची को तीन बार चोदा था फिर सुबह उठने के बाद वो किचन में थी मैंने उन्हें बाँहों में भरा और बोला कैसी है अब तुम्हारी प्यास? तो वो मुस्कुराने लगी और कहने लगी यह प्यास अभी तो बूझ गई लेकिन फिर तुम्हारे जाने के बाद इसके हाल को कौन जानेगा, तो मैंने कहा जब इसमें खुजली शुरु हो जाये तो मुझे याद करके अपनी चूत में ऊँगली कर लेना या फिर चाचा का लंड है ना, वो भी तो थोड़ा काम करेगा ना नहीं तो उसमें जंग लग जायेगा, मैं समय समय पर तुम्हारी चूत मारने ले लिये आता रहूँगा मेरी सेक्सी चाची।

READ  मम्मी की चूत और बहन के बूब्स

फिर दोस्तों हमने नास्ता किया और एक बार फिर से दोनों नंगे हुए और फिर मैंने उनको फिर से ऊपर से नीचे तक चाटा और एक बार उनकी खड़े खड़े ही चुदाई कर डाली वो भी सुबह सुबह के वक्त, उसके बाद जब तक चाचा घर पर नहीं आये मैंने अपनी चुदाई चालू रखी और उनकी चूत को खूब बजाया और अपना पानी भी उनकी चूत में खूब छोड़ा नया नया जोश था इसलिये यह सब हो भी गया, लेकिन चाची की चूत पूरी तरह से सूज गई थी और एकदम लाल हो गई थी।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016