रंडी मोम की तगड़ी चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा antarvasna नाम अभी है और मैं एक छोटे से शहर का रहने वाला हूँ मेरी उम्र 26 साल है मेरी हाइट 5.7 इंच है और मेरे लंड का साइज़ 7.6 इंच और मोटाई 4 इंच है। मेरे परिवार में मेरी मोम, पापा और मैं रहता हूँ। मेरे पापा एक गॉव में सरकारी स्कूल में टीचर है। ये मेरी और मेरी चुदक्कड़ मोम की कहानी है जिसमें मैंने उनको बहुत रगड़ रगड़कर के चोदा था और आज भी उनकी चूत को ढीला करता आ रहा हूँ। दोस्तों मेरी मोम का नाम रीना है वो थोड़ी मोटी लगती है उसका फिगर 38-32-40 है मुझे उनकी गांड बहुत ज्यादा पसंद है और वो एक नंबर की रंडी है, तो मैं आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

बात उस समय की है जब मैं 10 साल का था जैसा की मैंने कहा मेरी मोम एक नंबर की चुदक्कड़ है और उस समय उसका चक्कर मेरे एक अंकल के साथ चल रहा था वो मेरे पापा के काम पर जाने के बाद मेरे अंकल से चुदाई करवाती थी, ये मैंने तब देखा जब उनकी चुदाई की कामलीला शुरु हुई थी और मैं उस समय खेलते खेलते उनके पास चला गया मैंने उनसे पूछा की आप क्या कर रही हो? तो उसने कहा बेटा मैं अंकल से दवाई लगवा रही हूँ, खैर मुझे उस समय सेक्स के बारे में कोई जानकारी नहीं थी, फिर उसके कुछ साल बाद उसका चक्कर मेरे घर पर कोचिंग पढ़ाने वाले के साथ चलने लगा वो मुझे पढ़ाने के बहाने से मेरी मोम को पटाने आता था और कुछ दिन में ही मेरी रंडी मोम उससे पट गयी और उसके साथ भी चुदवाना शुरु कर दिया। तब मैं 14 साल का हो चुका था और मुझे मेरे क्लास के लड़को से सेक्स का तोड़ा तोड़ा ज्ञान हो गया था इस तरह एक दिन मेरे स्कूल में किसी का देहांत हो गया तो हमारे स्कूल में तुरंत छुट्टी हो गयी तो मैं घर जल्दी आ गया मैंने दरवाजा खोलने के लिए आवाज़ दी पर किसी ने दरवाजा नहीं खोला तो मैं पीछे का दरवाजा खोल के अन्दर गया तो मैंने देखा की बेडरूम से कुछ अजीब सी आवाज़े आ रही थी।

मैं धीरे से खिड़की से झाँका तो दंग रह गया मेरी मोम नंगी ही मेरे कोचिंग वाले सर के लंड पर उछल उछलकर चुदवा रही थी और आहह… चोदो मुझे और जोर जोर से चोदो की आवाज़े निकाल रही थी मैं वही खड़ा रहा फिर ऐसे ही कुछ देर बाद मेरी मोम की चूत से रस निकल गया और वो उसके सीने पर गिर गयी और शांत पड़ गयी, फिर उसने मोम को नीचे लेटाया और उसकी चूत में लंड डालकर ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा और कुछ देर में उसने अपना पानी मोम के पेट के ऊपर छोड़ दिया और जैसे ही उसने पानी छोड़ा मैं तुरंत कमरे में घुस गया मुझे देखकर वो दोनों दंग रह गये और जल्दी जल्दी से अपने कपड़े पहनने लगे और मेरा कोचिंग वाला सर तुरंत वहां से भाग निकला, फिर मोम ने मुझसे पूछा की तुम कब आए? तो मैं कुछ नहीं बोला फिर मोम ने मुझे ज़ोर से डाटा तो मैंने कहा अब मैं पापा के घर आने पर ही सब कुछ बताऊंगा तो फिर उस दिन मोम ने मुझे खूब जमकर पीटा तो मैं डर गया और किसी को कुछ नहीं बताया फिर उन दोनों का डर भी अब मुझसे खत्म हो गया लेकिन उस दिन के बाद वो जब मुझे पढ़ाने आता तो वो दोनों मेरे डर से एक दुसरे से बात नहीं करते और ना ही एक दूसरे से नजरे मिलाते थे। फिर मुझे लगा की उन दोनों के बीच अब कुछ नहीं है इसी तरह दिन निकलते गये और मैं 22 साल का हो गया और मैं अब सेक्स कहानियां भी पढ़ने लगा था पोर्न मूवी भी देखता, फिर एक दिन मैं जब कॉलेज से घर आया तो देखा की वो मेरे घर पर आया हुआ था और मोम उसकी गोद में बैठी हुई थी मैं जैसे ही अंदर आया वो मुझे देखकर तुरंत हट गयी और भागकर किचन में चली गयी और वो भी कुछ देर बाद चला गया मैंने अब भी अपनी मोम से कुछ नहीं कहा और अपने कमरे में चला गया कुछ देर बाद मोम मेरे कमरे में आई और ऐसे बिहेव करने लगी जैसे मैंने कुछ देखा ही ना हो, और पूछने लगी की बेटा कुछ खाएगा? मैंने कोई जवाब नहीं दिया फिर उसने मुझसे दुबारा पूछा की खाना खाएगा? तो मैंने चिल्लाकर कहा, नहीं और अब तुम जाओ यहाँ से तो वो वहां से चली गयी। मैंने उस वक़्त कुछ नहीं कहा लेकिन मुझे मोम पर बहुत गुस्सा आ रहा था, फिर मैंने उस दिन से मोम से बात करना बंद कर दिया और उसने भी मुझसे कुछ नहीं बोला ना बात करने की कोशिश की, इसी तरह कुछ दिन बीत गये और एक दिन जब मैं कॉलेज गया तो मेरे दोस्तों ने क्लास बंक करके मूवी देखने का प्रोग्राम बनाया तो जब पिक्चर ख़त्म हुई तो मैं थोड़ी देर इधर उधर घूमने के बाद घर पहुँचा मैंने जैसे ही दरवाजा खोला और अपने कमरे में जाने लगा जैसे ही मैं अपने कमरे की और बढ़ा मुझे फट.. फटआ… आहह… की आवाज़ सुनाई दी, मैंने खिड़की से अन्दर देखा तो मोम ही थी और वो उससे चुदवा रही थी मुझे पहले की सभी बातें याद आ गयी मुझे बहुत ज़ोर का गुस्सा आया मैंने अपनी बेल्ट निकाली और सीधे कमरे में घुस गया और दरवाज़ा अंदर से बंदकर दिया।

READ  दोस्त ने माँ को चूतिया बनाकर चोदा

मेरे आने की आवाज़ से वो दोनों सन्न रह गये और घबरा गये मेरे हाथ में बेल्ट देखकर दोनों की फट गई और दोनों जल्दी जल्दी से कपड़े पहनने लगे तभी मैंने सर को बेल्ट, हाथों से लातों घुसो से पीटने लगा और अपनी माँ को भी एक दो तपड़ दिए उसके बाद उसको जमकर पिटा और उसके बाद उससे कहा बैन के लौड़े आज के बाद मेरे घर के आस पास भी दिखा तो मैं तेरी जान ले लूँगा और उसे भगा दिया उसके बाद मैं मोम की तरफ बढ़ने लगा तो अचानक से मेरा ध्यान मेरी मोम के जिस्म पर गया साला क्या नंगा जिस्म था ऊपर से नीचे तक एकदम भरा हुआ अब मेरा मन बहकने लगा था और उसे चोदने का मन करने लगा फिर मैं धीरे धीरे उसकी तरफ बढ़ने लगा उसकी तो फट गयी थी की अब उसे भी मैं मारूंगा, लेकिन मैं उसके पास गया और बिना कुछ कहे उसके बूब्स को दबाने लगा वो पीछे हट गयी फिर मैंने उसे धक्का देकर बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़कर उसके बूब्स को दबाने लगा वो मना करने लगी और मुझे धक्का देने की कोशिश करने लगी मैंने भी उसे खींचकर दो तपड़ और लगाए और कहा बैन की लौड़ी उससे तो बड़े मज़े लेकर चुदावा रही थी अब क्या हुआ, फिर वो थोड़ी ढीली पड़ गयी और धक्का देना बंद किया फिर मैं उसके एक बूब्स को चूसने लगा और दूसरे को दबाने लगा, कुछ देर चूसने के बाद वो भी गरम होने लगी और अचानक से मेरे सर पर हाथ रखकर अपने बूब्स पर दबाने लगी और चिल्लाने लगी चूस साले चूस इसको पी जा जब तक इसका रस ना निकले और खा जा इन्हें, मुझे भी मज़ा आने लगा और मैं बारी बारी से दोनों बूब्स को चूसने लगा। लगभब 20 मिनट चूसने के बाद मैंने उसे छोड़ दिया मैंने देखा की उसके बूब्स एकदम लाल हो गये है। फिर मैं उसके होठों की तरफ बढ़ा और उसे किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी मैं एक हाथ उसकी चूत पर ले गया एकदम चिकनी और उस पर बाल साफ किये हुए थे मैं उसकी चूत को सहलाने लगा औट मसलने लगा फिर 5 मिनट बाद मैं उसके ऊपर से हटा और अपनी शर्ट खोलने लगा और वो मेरे पेंट का बटन खोलने लगी और मेरे लंड को बाहर निकाला वो एकदम खड़ा था उसे देखकर उसकी आहह निकल गयी। और बोली की ये क्या है बेटा, तू तो एक ही बार में किसी भी चूत की जान निकाल देगा और उसे ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी कुछ देर हिलाने के बाद उसे मुहँ में लेकर चूसने लगी मुझे गुदगुदी होने लगी और मज़ा भी आने लगा मैं भी उसके मोटे मोटे बूब्स को दबाने लगा फिर उसका सिर पकड़कर कसकर उसके मुहँ में लंड डालने लगा वो बस गू… गु… करती रही और कुछ देर बाद ऐसे ही करने पर उसकी आँखो में से आँसू आने लगे तो मैंने लंड बाहर निकाला फिर उसने कहा अब और मत तड़पा बेटा प्लीज चोद दे मुझे, मैंने कहा अभी नहीं पहले ज़रा तेरी चूत को तो देखु और उसकी दोनों टांगो को फैलाकर उसे देखने लगा एकदम चिकनी और गुलाबी चूत थी।

READ  जयपुर की कुँवारी चूत का भोसड़ा

मैंने उसमें अपनी एक उंगली डाली और अन्दर बाहर करने लगा फिर उंगली निकालकर अपने होठों को उसकी चूत पर रखा और चूसने लगा वो एकदम से मचल गयी और आऊच… उउंम्म… की आवाज़े निकालने लगी मैं अपनी जीभ और अन्दर डालने की कोशिश करने लगा और 3-4 मिनट चूसने के बाद ही उसने अपने दोनों जाँघो से मेरे चेहरे को अपनी चूत पर दबा लिया और ज़ोर जोर से अपनी गांड उछालने लगी और कुछ ही देर में उसने अपना गाढ़ा नमकीन पानी मेरे मुहँ में छोड़ दिया और एक जिंदा लाश की तरह लेट गयी मैंने भी उसकी चूत के रस को पिया और जीभ से चाटकर चूत को साफ किया अब मैं उठा और अपने लंड को उसकी चूत पर घिसने लगा और उसने कहा बेटा डाल ना अन्दर प्लीज, मैं भी धीरे धीरे अपना लंड अन्दर डालने लगा और अभी मेरा लंड 4.5 इंच तक ही गया था की वही रुक गया तो उसने बताया की उसने अब तक सिर्फ़ इतने ही बड़े लंड लिए है इतना बड़ा लंड पहली बार ले रही है तो मैं भी धीरे धीरे लंड आगे पीछे करने लगा और 10-15 धक्को के बाद अचानक से पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा गया और वो बहुत ज़ोर से चिल्लाई और उसकी आँखो से आँसू आने लगे मैं वैसे ही थोड़ी देर रुका और उसके होंठ और बूब्स को मुहँ में लेकर चूसने लगा। फिर कुछ देर बाद उसे थोड़ा आराम मिला तो उसने नीचे से अपनी गांड को हिलाना शुरु किया मैं भी अब धीरे से लंड को आगे पीछे करने लगा और वो ऐईअ… सी…. की आवाज़ निकालने लगी और कहने लगी चोद बेटा चोद अपनी मोम को, बन जा आज मादरचोद मुझे भी जोश चढ़ने लगा और मैंने धक्को की स्पीड थोड़ी तेज कर दी और वो अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी। दोस्तों यह सेक्स स्टोरी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

लगभग 20 मिनट चोदने के बाद वो झड़ने लगी तो मैंने उसे अपने ऊपर आने को कहा वो मेरे ऊपर चढ़ गयी और चूत को लंड पर सेट करके ऊपर नीचे होने लगी कुछ देर बाद मैंने उसे अपने ऊपर झुकाकर कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और उसके होंठ चूसने लगा लगभग 35 मिनट इसी तरह चोदने के बाद मुझे लगा की मेरा निकलने वाला है तो मैंने पूछा की कहा निकालु तो उसने कहा पूछता क्या है मादरचोद डाल दे मेरी चूत में अपना रस, मैंने अपना ऑपरेशन करा लिया है। और कहा चोद जल्दी से, मेरा भी निकलने वाला है और चिल्लाते हुये वो झड़ गयी तो मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और कुछ ही धक्को के बाद जितना अन्दर तक लंड जा सकता था उतना अन्दर डालकर उसकी गांड को कसकर अपने लंड पर दबा दिया और मैं झड़ गया मेरा पहली बार इतना रस निकला था। कुछ देर बाद हम अलग हुये हम पूरे पसीने से भीगे थे और हाफ़ रहे थे। कुछ देर बाद वो उठी और बाथरूम में चली गयी और बाथरूम से आने के बाद कहने लगी तू तो बिल्कुल जानवर की तरह चोदता है और अपनी चूत दिखाकर के कहने लगी देख तूने इसे पूरा सूजा दिया है और मैंने उसे अपनी तरफ खींचकर अपनी बाहों में भर लिया और कहने लगा मेरी रांड़ अभी तो तेरी चूत ही सूजी है अभी तेरी गांड भी सुजेगी तो उसने कहा नहीं नहीं मैं अपनी गांड नहीं मरवाऊँगी, मैंने आज तक किसी से गांड नहीं मरवाई, और तेरा लंड तो बहुत मोटा है मेरी गांड को गुफा बना देगा मैंने कहा कुछ नहीं होगा।

READ  भाभी को दोस्त बनाकर चोदा

तो भी वो नहीं मानी, मेरी बहुत कोशिश करने के बाद मोम मानी लेकिन बोली की एक शर्त पर डालने दूँगी अगर ज्यादा दर्द हुआ तो निकाल लेना मैंने हाँ कहा, और उसे घोड़ी की तरह बना दिया और उसकी गांड को सहलाने लगा क्या गजब की मोटी मोटी गांड थी मगर गांड का छेद एकदम छोटा था तो मैंने पास में ही पड़ी तेल की सीसी उठाई और तोड़ा सा तेल उसकी गांड के छेद पर लगाया और उसमें एक उंगली डालने लगा, उंगली बड़ी मुस्किल से अन्दर गयी उसे दर्द होने लगा फिर भी मैं अपनी उंगली अन्दर बाहर करता रहा फिर कुछ देर के बाद मैंने अपने लंड पर ढेर सारा तेल लगाया और उसकी गांड पर भी, और धीरे धीरे लंड उसकी गांड में डालने लगा उसे दर्द हो रहा था उसने निकालने को कहा मगर मैं कहा मानने वाला था मैंने एक ज़ोर का शॉट लगाया और लगभग 5 इंच लंड उसकी गांड में अंदर कर दिया वो ज़ोर से चिल्लाई और निकालने को कहने लगी मैंने उसकी कमर को कसकर पकड़ा और एक और जोरदार शॉट लगाया और पूरा लंड उसकी गांड में चला गया और वो चिल्लाकर रोने लगी और मैं थोड़ी देर वैसे ही रुक गया और दोनों हाथों से उसकी चुचि सहलाने लगा जिससे उसे तोड़ा आराम मिला।

तो मैंने धीरे से अपने लंड को बाहर निकाला तो देखा सूपडे पर खून लगा हुआ था और तोड़ा उसकी गांड से निकल रहा था मैं भी परवाह ना करते हुए धीरे से लंड अन्दर बाहर करने लगा कुछ देर बाद वो शांत हुई तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसकी चुचि सहलाने लगा और एक हाथ से चूत को, ऐसे ही लगभग 20 मिनट के बाद मैं उसकी गांड में झड़ गया और लंड बाहर निकाला और उसके बगल में लेट गया फिर उस दिन से लेकर आज तक मैं उसे चोदता आ रहा हूँ और वो अब मेरे अलावा किसी और से नहीं चुदवाती है।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!

Antarvasna Hindi Sex Stories © 2016